15 May 2011

डा० ओमप्रकाश सिंह की हाइकु कविताएँ

डा० ओमप्रकाश सिंह सुप्रसिद्ध नवगीतकार हैं। व्रतमान में आप हाइकु कविताएँ भी लिख रहे हैं। हाइकु दर्पण के इस अंक में डा० ओमप्रकाश सिंह की हाइकु कविताएँ प्रकाशित की जा रही हैं।

सम्प्रति -
डा० ओमप्रकाश सिंह
252, शान्ति निकेतन, साकेत नगर
लालगंज, रायबरेली
(उत्तर प्रदेश)




अर्थ व्यवस्था
टूटती दीवार-सी
सिर पर गिरी ।




फुनगियों में
झूलने की चाह है
कोशिश करो ।




शिखर पर
चढ़ते रहे लोग
पुरुषार्थ कर ।




आक्रोश हुआ
फुटपाथ पर तो
विस्फोट हुआ ।







आँधियों की भी
उमर कितनी है
मर जायेंगी ।

No comments: