15 September 2019

मेरे समीप

मेरे समीप
दूर तक फैले हैं
पीड़ा के द्वीप।

-सूर्यनारायण गुप्त सूर्य

हवा का झोंका

हवा का झोंका
आकाश में तैरते
सेमल बीज।

-विष्णुप्रिय पाठक

08 February 2019

मात खा गया

मात खा गया
झूठे जग के आगे
बेचारा सच

-डा० उर्मिला अग्रवाल
(उजाले की खातिर से)

बाबा का श्राद्ध

बाबा का श्राद्ध
कबाड़ी खरीदता
पुरानी खाट

-पुष्पा सिंघी