09 January 2013

पीर मन की


पीर मन की
कहने बह चले
निःशब्द आँसू

-हेमन्त रिछारिया
फेसबुक से साभार

No comments: